तीर न तुक्का - अखिल सावंत
September 4, 2019 • NP Network

पिछले दिनों कांग्रेस के तीन बड़े नेता शशि  थरूर  ,जय राम रमेश  एवं मनु सिंघवी  ने खुले मंच परे स्वीकार किया प्रधानमंत्री मोदी  की हर बात पर आलांेचना करके  उनका मुकाबला नहीं कर सकते हैं, वैसे सी बी आइ के चुगंल में आने से पूर्व चिदंबरम भी मोदीजी के समर्थन में कसीदे पढ़ने लगे थे चाहे वजह कुछ भी हो?  मायावति भी वक्त बेवक्त मोदी सरकार की नीतियों का समर्थन करती रहती है। इसलिए हमारी नेक सलाह है मोदी विरोधी  नेताओं को ठीक वैसे ही जैसे कि मंदोदरी आॅंटी ने रावण को दी थी।
नाथ बयरू कीजे ताही सो,बुधि बल सकिअ जाति जाही सो ।।
 हे! नाथ बैर उससे करना चाहिए,जिससे बुद्वि और बल से जीता जा सके। इसलिए विरोधी नेताओं कोप्रधानमंत्री की योग्यता को स्वीकृत प्रदान करनी चाहिए। वैसे यह नेक सलाह पाकिस्तान एवं उनके प्रधानमंत्री इमरान खान कों भ्ीी है ।वरना रावण का हश्र सब  जानते हैं, मंदोदरी के पास विलाप के आलावा कुछ नही बचा था ।