वरिष्ठ पत्रकार शंभू नाथ की फेसबुक वॉल से - 2
November 7, 2019 • NP Network

गांधी, नेहरू वकील थे। पर यह भी याद रखिए, कि रामानन्द तिवारी और भैरोसिंह शेखावत सिपाही थे। मैं पुलिस के सिपाही और दारोग़ाओं को राय दूँगा, कि कुछ आईपीएस के कहने पर वकीलों से मारपीट न करें। कोई आईपीएस आज तक नियंता नहीं बना, जबकि सामान्य सिपाही उपराष्ट्रपति तक पहुँचा है। सोचो तुम एक आईपीएस से काबिल हो। दूसरे ज़िला कोर्ट में वकीलों से सामना तुम्हारा होगा, आईपीएस का नहीं। इसलिए परस्पर दोस्ती बनाए रखो।